Phone: +91-9811-241-772

Poems

 क्या खूब कहा था किसी ने

 

क्या खूब कहा था किसी ने

हसरते पूरी करने की खुवाहिश में ना उतरना मेरे दोस्त

ये ज़िंदगी का मेला हसीन ज़रूर दिखता है

पर यहाँ खुवाहिशे पूरी करने के नाम पर सुकून बिकता है,

तुम एक हसरत पूरी करोगे

वो दूसरी का दरवाज़ा खोल जाएगा

इस सफ़र में उलझ कर तू एक दिन जीना ही भूल जाएगा,

दूर बैठे दरिया का पानी मीठा ही लगेगा

पर आज जो 2 रोटी तू चैन से खा रहा है

सुकून से जीना

एक दिन तुझे उस ही में दिखेगा

इसलिए इच्छा कर

पर चैन मत गवा

जो है उसका शुक्रिया अदा कर

देख जीने में आएगा कितना मज़ा.......