Phone: +91-9811-241-772

Poems

 खामोशी की लेकर आड़

 

खामोशी की लेकर आड़
क्यों कर रहे हो..........रिश्तों के साथ खिलवाड़,
कह दो जो कहना है
खामोशी अब तुम्हारी तीर से चुभाती है
मन को मेरे बहुत दुखाती है,
तुम्हें लगता है कि मन की बात 
यूँ इस तरह हमसे छुपा लोगे
और हम इंतेज़ार में बैठे रहते हैं
कि कब तुम संग अपने हमें
समुंदर में बहा लोगे......