Phone: +91-9811-241-772

Poems

 बात सिर्फ़ समझने की है

 

बात सिर्फ़ समझने की है

चाहे प्रकृति से या खिलोने से

बिना ठोकर खाए

समझ आए,

तो समझो बहुत सस्ती पड़ी

क्युकि

एक तरफ आसमाँ मौसम के ज़रिए करता है इशारा

और दूसरी तरफ इंसान के हाथो बनाई गई घड़ी

कि दोनो ही वापस घूमकर आतें हैं

बस वो वक़्त साथ नही लातें हैं