Phone: +91-9811-241-772

Poems

 ख्वाहिशे बेकसूर हैं

 

ख्वाहिशे बेकसूर हैं

उन्हें नही पता

कि हम मजबूर हैं