Phone: +91-9811-241-772

Poems

 सवालों के कठग्रे में खड़े रहना चाहते है हम क्योंकि

 

सवालों के कठग्रे में खड़े रहना चाहते है हम
क्योंकि 
जवाब जितने भी मिल जाएँ
सवाल उतने ही बढ़ाते हैं हम.............