Phone: +91-9811-241-772

Poems

 दर्द नही आँखों में दास्तान है

 

दर्द नही आँखों में

दास्तान है

सुन ले कोई गुज़ारिश है

अब टूट रहा इनके पीछे छुपा बाँध है