Phone: +91-9811-241-772

Poems

 माँ के आँसुओं से आवाज़ आई जिसके लिए मैं सारी दुनिया से लड़ी

 

माँ के आँसुओं से आवाज़ आई

जिसके लिए मैं सारी दुनिया से लड़ी

तोड़ गई मुझे उसकी जुदाई ....

 माँ की लाचारी बेटे की नज़रे

फिर भी  ना समझ पाई

जब उसको तकलीफ़ में देख

माँ की आँख भर आई .................

हे मेरे प्रभु

माँ तूने ऐसी क्यों बनाई ....................