Phone: +91-9811-241-772

Poems

 कुछ बातों के भवर में मैं धंस गया था

 

कुछ बातों के भवर में मैं धंस गया था

इसलिए रास्तों पर फँस गया था

एक अपंग पक्षी तभी तभी मेरी नज़रों के समक्ष धीरे धीरे उड़ गया

मेरे सवालों के उत्तर से जुड़ गया

कि चोट खा कर जो पड़ा रहे

वो सदा परिस्थितियों से घिरा रहे

जो चोट खा कर चलने का प्रयास करे

वो जीवन में सदा आगे बड़े ....................

वो पक्षी अंजाने में

मेरी डूबती कश्ती को बचा गया

जानवर होकर भी वो

एक टूटते मनुष्य को चला गया...