Phone: +91-9811-241-772

Poems

 सुकून की चाह में सुख की रोटी ढूढ़ रहा था,

 

सुकून की चाह में

सुख की रोटी ढूढ़ रहा था,

 जैसे ही वो मिली

सुकून की परिभाषा बदल गई.