Phone: +91-9811-241-772

Poems

 बेगैरत ना तो वक़्त है

 

बेगैरत ना तो वक़्त है

ना ही है किसी अपने का दोष

बेगैरत निकली हमारी खुद की बदलती हुई सोच.................

Sonali nirmit