Phone: +91-9811-241-772

Poems

 अजब सी परिस्थितियों में हम रहते हैं

 

अजब सी परिस्थितियों में हम रहते हैं

आँख से आँसू

ना बाहर आते ........ ना अंदर बहते है

धुँधला सा हर नज़ारा दिखता 

तो आँसू ही हमसे कहते हैं,

कि हमें दोष देने की बजाए 

बस इतना बता दे....

हम जिनके इंतेज़ार में बैठें हूँ

वो अब तक तेरे दिल में क्यूँ रहतें हैं ...........