Phone: +91-9811-241-772

Poems

 दुआओं में किसी अपने की घेहरा असर है जान नही मुझमें

 

दुआओं में किसी अपने की घेहरा असर है

जान नही मुझमें

मगर.....साँसे बेख़बर है....

 हर पल टूट रहा हूँ

जाने कैसे सब्र है,

दिल की कुछ खुवाहिशे बाकी हैं

शायद जुड़ा उन्हीं से

ये सफ़र है,

 होना है जो वो होगा ही

बस मन सब कह पा रहा है

इसलिए ज़िंदगी ज़फ़र है................