Phone: +91-9811-241-772

Poems

 थकने लगा हूँ अब इस भाग गम भाग की ज़िंदगी से

 

थकने लगा हूँ अब

इस भाग गम भाग की ज़िंदगी से

अपनो की लड़ाई से

अपनो की हमदर्दी से

बेचैन सी रहती हैं

साँसे भी अब हर पल

वार मिलेगा या प्यार

या फिरसे जुदाई के पल............