Phone: +91-9811-241-772

Poems

 क्यों सोचते ही रह जाते हैं

 

क्यों सोचते ही रह जाते हैं
करना चाहतें हैं बहुत कुछ
फिर भी कर नही पाते हैं......