Phone: +91-9811-241-772

Poems

 मेरी बेरूख़ी तुझे मज़बूत बना रही है

 

मेरी बेरूख़ी तुझे मज़बूत बना रही है

ध्यान से देख

तेरे कदमों में फुर्ती आ रही है...............