Phone: +91-9811-241-772

Poems

 तुम्हारी खामोशी भारी मुस्कुराहट बहुत कुछ कह जाती है.

 

तुम्हारी खामोशी भारी मुस्कुराहट

बहुत कुछ कह जाती है.....

लफ़्ज़ों का क्यों बेवजह इस्तेमाल करती हो

हमारे जवाब में बस मुस्कुरा दिया करो

वही काफ़ी है............