Phone: +91-9811-241-772

Poems

 कहाँ गई वो खुश्बू जो हर पल में घुली थी

 

कहाँ गई वो खुश्बू

जो हर पल में घुली थी

अपनो से मिली थी ,

हर लम्हें को मुस्कान का जाम समझ जीते थे

मुश्किलें हो या सुकून........... पल खुशी से ही बीते

थे ,

आज गुम हो गए वो रिश्ते जाने किस भीड़ में

जिन्हें देख हम जीते थे............

मन को हार कर मनाया है ज़रूर

पर मुड़ कर देखूं तो

सच यही है की लम्हे बिन उनके हमफीके थे….