Phone: +91-9811-241-772

Poems

 जाने ज़िंदगी किस भीड़ में खो गई

 

जाने ज़िंदगी किस भीड़ में खो गई 

एक वक़्त था जब अपनी थी 

आज चिंताओं की हो गई ,

जो पल बेफ़िक्र जीते थे 

वो आज हमारी सोच के मोहताज हैं 

क्योंकि सिर पहना हमने केवल अंधकार का ही ताज है 

इसलिए 

धूप का आनंद

बरसात का प्यार

पतझड़ के रंग 

और

सुख का सार 

सब बन गया व्यापार............

क्योंकि दुवेश और घ्रणा के आगे हम  इंद्रियाँ गए हार

भूल गए अपने संस्कार 

इसलिए 

खो बैठे अपनो के प्रति प्यार