Phone: +91-9811-241-772

Poems

 हम तुम्हारे बिना जी नही सकते

 

हम तुम्हारे बिना जी नही सकते

और तुमसे ही रूठे बैठे हैं

हमें नही दिखता कोई रास्ता

हम ऐसे क्यों रहते हैं ,

तुमसे तुम्हारी ही बात कह नही पा रहे

शायद इसलिए ही नज़रे चुरा रहे ,

 लिख कर छोड़ रहे है ये सोच कर की शायद

तुम्हारी नज़र इस पर पढ़ जाए

क्योंकि

हम तो सीधा तुम्हे ये भेज भी नही पा रहे ..........