Phone: +91-9811-241-772

Poems

 हर दिन में कई दिन जी लूँ

 

हर दिन में कई दिन जी लूँ

हर लम्हें को सी लूँ ,

होश में ना औउँ कभी

तुम्हारी एक झलक से

इतने जाम पी लूँ,

झूमें ये जीया

घर आ रहें है पिया,

जीवन के सारे रंग

खिल जाएँगे ,

बाते ये मन की जाने ये पक्षी

महकाए आँगन

नाचे सब सखी,

उनके लए मैने

हर लम्हा सिया

आज मेरे पिया

मुझे मिल जाएँगे,

बोले ये सुई

आरज़ू पूरी हुई

आँगन में चरण

कमल आएँगे ,

होगी फूलों की वर्षा

गूँजे हर दिशा

उनके आने से पहले

महके है फ़िज़ा,

झूमें ये जिया

घर आ रहे पिया

जीवन के सारे रंग खिल जाएँगे