Phone: +91-9811-241-772

Poems

 हम जिन गलियों में पलें हैं

 

हम जिन गलियों में

पलें हैं

वो कहते हैं

वहाँ ख़ुदग़र्ज़ लोग रहते है ,

 एक लड़की \ एक औरत

कितना भी लंबा सफ़र करले तय

उस पर कभी भी उंगली उठाई जा सकती है

इस बात का सदैव बना रहता है भय ..........