Phone: +91-9811-241-772

Poems

 आज फिर माँ की गोद मे सिर रख कर सोने का

 

आज फिर माँ की गोद मे सिर रख कर सोने का
मान करता है,
भागती हुई इस ज़िंदगी मे कुछ पल अपना होने को मान करता है,
शायद घड़ा बहुत भर गया है
जिसको हलका करने ,
माँ के आगे रोने को मन करता है,
क्युकि आज याद आते हैं वो दिन ,
जब जीते थे ज़िम्मेदारीओं के बिन
जब हर तरफ थे खिलोने,
आँखों मे सपने सलोने ,
ना कोई वादे ना कोई कसमे,
हर पल थे अपने,
और हम अपनी माँ के सपने...............