Phone: +91-9811-241-772

Poems

 ज़िंदगी जी रहे हैं

 

ज़िंदगी जी रहे हैं 

फिर भी जीने की खुवाहिश करते हैं 

समझ नही आता 

लोग किस उलझन में रहते हैं