Phone: +91-9811-241-772

Poems

 चाँद पैसों से बाज़ार में समान बिकता था

 

चाँद पैसों से बाज़ार में समान बिकता था

आज चाँद पैसों में केवल इंसानियत बिकती है

समान नहीं