Phone: +91-9811-241-772

Poems

 तेरी आँखों में आज बग़ावत देख

 

तेरी आँखों में आज बग़ावत देख
एहसास हुआ तेरे दर्द का

हम सोचते थे 
वक़्त की दावा ही काफ़ी है तेरे हर मर्ज़ का
हमे इल्म ना हुआ तेरी खामोशी
कब इंक़लाब में बदल गई,

ज़रूरत से अधिक लूटा
हमने तेरी सादगी को
शायद इसलिए आज किस्मत हमसे ही छल गई...............