Phone: +91-9811-241-772

Poems

 उनको अपना बनाने की चाह मैं

 

उनको अपना बनाने की चाह मैं

जिस दिन खुद को बदला,

उनकी चाहते बदल गई......................

 हमने सपने देखे थे .........उनके साथ उगते सूरज के,

हमारी तो रातें ही ढल गई.................