Phone: +91-9811-241-772

Poems

 दो पंक्तियों में बस यही कहना चाहूँगी

 

दो पंक्तियों में

बस यही कहना चाहूँगी

जब भी ,जहाँ भी, जन्म मिले

सदैव औरत ही बनना चाहूँगी

वजह......

खुदा ने इतनी खूबसूरती भरी है इसमें

जो संसार कभी पूर्ण रूप से देख नही पाएगा

मगर हम खुद को खुश नसीब समझेंगे

यदि खुदा हमे बार- बार उसका हिस्सा बनाएगा ..............