Phone: +91-9811-241-772

Poems

 जाने सफ़र किसका कितना लंबा है

 

जाने सफ़र किसका कितना लंबा है,
ये जानते हुए भी हर शाकस जीता अँधा है,
जब छूट जाता है
तब समझ आता है,
के शायद दो पल औरमिल कर गुज़ार लेते,
जो बिगड़ा झूट गया उसे सवार लेते..
पर अब रोने से कोई फ़ायदा नही
जाने वाला चला गया ,
हम रह गए वहीं,
सीख ये ही है कि......किसी से गीले शिकवे ना रख पियरे
जाने कब किस मोड़ पर हो जाएँगे भगवान को पियरे.........