Phone: +91-9811-241-772

Poems

 आज फिर दिल बहुत उदास है

 

आज फिर दिल बहुत उदास है

उन रिश्तों के धागे उलझ गए हैं

जो दिल के बहुत पास हैं,

माना के कभी कभी अच्छी होती हैं दूरियाँ

पर पाता तो चले आख़िर क्या बात है,

क्योंकि कई बार

हम बिन कहे समझ पाते नही

ये बात उन्हें समझा दे कोई.............