Phone: +91-9811-241-772

Poems

 अपनी कमज़ोरिओं को ढाल मत बनाओ

 

अपनी कमज़ोरिओं को ढाल मत बनाओ

रास्ते पर पड़े कंकरो को सवाल मत बनाओ

हर हाल में भड़ते चलते जाने को ही तो ज़िंदगी कहते हैं,

इसलिए मिलने वाली .चुनौतीयों को बबाल मत बनाओ,

यह तोहफे है ज़िंदगी के

इन्हे मशाल मत बनाओ,

परेशानियों को ख़याल मत बनाओ

बेवजह काले बालों को सफेद बाल मत बनाओ

रम जाओ ज़िंदगी के हर पल में

उन्हें सालो साल मत बनाओ.....

मिसाल बनाओ