Phone: +91-9811-241-772

Poems

 परख में फरक

 

परख में फरक

कहीं एक चिराग से भी दिखता उजाला

तो कहीं चिरागों का मेला..........

पर वहाँ इंसान है काला.......