Phone: +91-9811-241-772

Poems

 जो अभी झुकी नही डाली

 

जो अभी झुकी नही डाली

मैं उसका हूँ माली

मैं और कोई नही

वही हूँ

जिसने तुम्हे भीड़ में चलना सिखाया………

जिसको तुमने एकेलेपन से मिलवाया,

पर मैं आज भी तुम्हारे लए कुछ भी कर सकता हूँ,

बस आज़माना मत

आज़मालो अगर ....तो बाद में पछताना मत

तुम्हारा पिता