4
May

एक नन्हीं सी जान

एक नन्हीं सी जान

देश भक्ति के प्रति भेजती

आप सबके लिए पैगाम

4
May

वक्त आ गया है

वक्त आ गया है

खाने का कसम

नारी संग दुष्कर्म

4
May

वक्त के साथ खेलने की कोशिश

वक्त के साथ खेलने की कोशिश

में जब नाकाम हुए

तब समझ आया

कितना भी पैसा हो

4
May

तू ही है तू

तू ही है तू

तू ही है तू

जिसके लिए मैं जीता हूँ

4
May

कलम के संग

कलम के संग

घुले रंग

मन में उठी

4
May

चार दिन दीपक जलाए

चार दिन दीपक जलाए

हमने जिसकी याद में

फिर उस घिनौने हादसे को

2
May

एक ऐसा देश हमारा है जो सारे जहाँ से प्यारा है

एक ऐसा देश हमारा है जो सारे जहाँ से प्यारा है

जहाँ धरती को माता कहते है ऐसा देश ये न्यारा है

मज़हब चाहे अनेक हो यहाँ पर फिर भी कुछ भी एक ही नारा है

29
Apr

ए मात्र भूमि के भक्त

ए मात्र भूमि के भक्त

जो तुमने ना लिया होता संकल्प उस वक़्त,

तो रोशन ना हुआ होता ये जहाँ ,

29
Apr

Hello world!

Welcome to WordPress. This is your first post. Edit or delete it, then start blogging!