May 2015

8
May

जिस दिन आज़ादी की साँसे ली थी हमने

जिस दिन आज़ादी की साँसे ली थी हमने,
उस दिन पतंग उड़ाई थी,
जिस दिन हमने इस देश के हाथों में,

8
May

..गुरु का गुनगान करे गुरु का गुन गान

गुरु का गुनगान करे गुरु का गुन गान,
जैसे इस धरती उपर आसमान,
जो बताए आपको क्या है आपकी पहचान,

8
May

मेरा स्कूल क्या कहता है मुझसे

मेरा स्कूल क्या कहता है मुझसे,
वो कहता है खेलो तुम इसमें,
मेरे कोन-कोने में जाकर,

8
May

खुले नीले आसमान के नीचे एक दिन खड़ी थी मैं

खुले नीले आसमान के नीचे एक दिन खड़ी थी मैं,
ना जाने क्या देखा ऐसा कि बस अब अड़ी थी मैं,
एक बच्चे के हाथ में था भींक माँगने का कटोरा,

8
May

रक्षा बन्ध्न का त्यौहार

रक्षा बन्ध्न का त्यौहार
जो लाता खुशियों की बौछार,
भाई-बहन के जीवन में भरता,

8
May

जब से गुरु मन भायो

जब से गुरु मन भायो
जाने क्या-क्या हमने है पायो,
क्या बताए तुमको ओ गुरु जी

8
May

कहता है दिल

कहता है दिल
बिन तेरे जीना मुश्किल,
हर साँस कहती है

8
May

प्रभु की कृपा से गुरु मिल गए

प्रभु की कृपा से गुरु मिल गए
भय सारा टूटा जब गुरु मिल गए
चेहरा उनका एक दर्पण

8
May

कुछ नगमें जि़न्दगी के

कुछ नगमें जि़न्दगी के,
कुछ अपने बेबसी में,
जब भी है मिल जाते,

8
May

मैं समय हूँ… और तुम सबके जीने की वजह हूँ

मैं समय हूँ, और तुम सबके जीने की वजह हूँ,
क्या तुमने कभी मेरी एहमियत को जाना है,
या फिर सब कुछ खुद को ही माना है,