मुस्कुराहट ला पता है अब मुझसे खफा- खफा है

मुस्कुराहट ला पता है

अब मुझसे खफा- खफा है,

मैं जनता हूँ क्यों

क्योंकि जब वो मेरे इर्द गिर्द घूमती थी

तब मैने उससे नही अपनाया …..

आज जब मैने उसकी अहमियद जानी

तो उसने मुझे नही अपनाया ………

\दोस्तों अनुभव कहता है

चेहरे पर मुस्कुराहट हर हाल में सजाए रखना

मैने इसकी ताक़त से जलने वालों को गिरते देखा है

धन्यवाद

Comments are closed.